Migraine treatment at home in hindi-माइग्रेन के घरेलु उपचार

आज-कल लोगों के लिए सिर दर्द की समस्या अब नॉर्मल हो गई हैं। सिर दर्द की वजह से हमारा पूरा दिन खराब हो जाता हैं किसी काम में मन नहीं लगता। बच्चे हों या बड़े, आजकल सभी सिरदर्द से परेशान हैं। यही सिरदर्द बढ़ते बढ़ते माइग्रेन (Migraine) बन जाता हैं।

Migraine kya hota hai- माइग्रेन सिरदर्द की बीमारी हैं, जब हमारे दिमाग की नसों में खून का दौरा बढ़ जाता हैं तब सिर तेज दर्द करने लगता हैं इसे ही माइग्रेन कहते हैं। यह किसी भी उम्र के व्यक्ति को हो सकता हैं। माइग्रेन की समस्या पुरुषों में कम महिलाओं को अधिक होती हैं।

इसमें कभी कभी दर्द कुछ मिनटों से लेकर कुछ दिनों तक रह जाता हैं। कई बार सिर के आधे हिस्से में भी तेज दर्द करता हैं। इस दर्द से संबंधी हमारी सेहत को कई अन्य समस्याएं भी होने लगती हैं। इस बीमारी में दवाओं से ज्यादा सही खानपान और दिनचर्या पर ध्यान रखना जरूरी होता हैं।

ये पढ़ें : तैलीय त्वचा (oily skin) से छुटकारा पाने के घरेलु उपाय

Migraine ka gharelu upay-सिर दर्द के घरेलु उपाय

migraine symptoms in hindi-माइग्रेन के लक्षण

  • आंखों में दर्द और पानी आना
  • नाक बंद हो जाना
  • नींद नहीं आना
  • तनाव और थकान
  • उल्टी होना
  • चक्कर आना
  • सिर में एक तरफ चुभ-2 कर दर्द होना
  • रोशनी और तेज आवाज़ से परेशानी महसूस होना
  • सिरदर्द के साथ-साथ गैस्टिक, मितली, उल्टी जैसी समस्याएं होना
  • गुस्सा और चिडचिडापन होना

Migraine causes-सिर दर्द के कारण

  • अधिक मात्रा में चाय या कॉफी पीना
  • तेज आवाज और ज्यादा देर तक Music सुनना
  • शराब का सेवन करना
  • मौसम में बदलाव
  • गलत खान-पान
  • कम नींद लेना
  • क्षमता से अधिक परिश्रम
  • असंतुलित हार्मोन्स

home remedy for migraine relief in hindi-माइग्रेन को ठीक करने के घरेलु उपचार

कुछ प्राकृतिक उपचार का उपयोग करके आप माइग्रेन से राहत पा सकते हैं।

  1. मैग्नीशियम युक्त आहार का सेवन

हमारे स्वास्थ्य को अच्छा बनाए रखने के लिए सभी पोषक तत्व जैसे विटामिन, कैल्शियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस, पोटैशियम और सोडियम आदि बहुत ही जरूरी होते हैं, पर मैग्नीशियम हमारे शरीर में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता हैं।

मैग्नीशियम की कमी के कारण माइग्रेन का दर्द बढ़ जाता हैं। इसलिए मैग्नीशियम युक्त खाद्य पदार्थ जैसे-हरी पत्‍तेदार सब्‍जियां, अनाज, गेंहूं, ब्रॉकली, बादाम, तिल सूरजमुखी का बीज, काजू, पीनट बटर, अंडा, और दूध आदि में भरपूर मात्रा में मैग्नीशि‍यम होता हैं। इन सभी को अपनी आहार में जरूर शामिल करें। आपको माइग्रेन के दर्द में राहत मिलेगी।

ये पढ़ें : बालों से रुसी हटाने के अचूक नुस्ख़े

  1. अदरक (Ginger)

आयुर्वेद में अदरक को औषधि के रूप में उपयोग किया जाता हैं। यह सभी घर में आसानी से मिल जाता हैं। अदरक सर्दी जुकाम के साथ साथ सिर दर्द के लिए भी रामबाण उपाय हैं। यह हमारे शरीर और दिमाग के लिए बहुत ही लाभकारी हैं। अदरक कई बीमारियों से बचाने, तनाव और शारीरिक दर्द को दूर करने में बहुत सहायता करता हैं।

अदरक के रस में नींबू का रस मिलाकर पीने से migraine के दर्द में आराम मिलता हैं। इसके अलावा आप अदरक का छोटा सा टुकड़ा मुंह में रखकर उसे दांत से दबा लें। या फिर 1 चम्मच अदरक के रस में शहद मिलाकर पिएं। चाय में अदरक मिलाकर भी पी सकते हैं। दिन में कम से कम एक-दो बार जरूर पिएं। अदरक माइग्रेन के दर्द को रोकने के साथ उसे कम करने में मदद करता हैं।

  1. तुलसी (Holy Basil)

भारत में तुलसी अपने प्राकृतिक गुणों के लिए जानी जाती हैं। तुलसी के पत्तों में ऐंटीऑक्सिडेंट और ऐंटीबैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं, जो हमारे स्वास्थ्य के लिए बेहद जरूरी हैं। यह हमारे शरीर को सर्दी, खांसी, जुकाम जैसे कई अन्य बीमारियों से बचाती हैं, और हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में भी मदद करती हैं। दूध में तुलसी के पत्ते उबालकर पीने से सिरदर्द दूर होता हैं। तुलसी का तेल माइग्रेन के दर्द में बहुत लाभदायक हैं।

तुलसी के तेल से सिर पर मालिश करने से माइग्रेन के दर्द के साथ साथ मांसपेशियों में भी आराम मिलता हैं इससे तनाव कम होता हैं, और दर्द से राहत मिलती हैं। इसके अलावा आप तुलसी के तेल की एक दो बूंद अपनी नाक में डाल लें। इससे पुराने सिर दर्द और सिर से जुड़ी समस्या दूर हो जाती हैं। आप दिन में दो बार चाय में तुलसी के पत्ते डालकर पी सकते हैं। रोजाना सेवन करने से दिमाग तेज होगा और याददाश्त भी बढ़ेगी।

  1. अंगूर (Grapes)

फलों में सबसे रसीला और स्वाद में खट्टा मीठा अंगूर सभी को पसंद हैं, और हमारी सेहत के लिए बेहद लाभकारी भी हैं। यह हमारे शरीर को कैंसर, ब्रेस्ट कैंसर, हार्ट, कब्ज़ और बैक्टीरियल इंफेक्शन आदि कई रोगों से बचाता हैं और खून की कमी को भी पूरा करता हैं। अंगूर या अंगूर का रस का सेवन करने से माइग्रेन के दर्द से राहत पाई जा सकती हैं।

अंगूर में कैलोरी, फाइबर, कार्बोहाइड्रेट्स और विटामिन C भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। रोज एक गिलास खाली पेट अंगूर का रस पीएं। इससे migraine के दर्द की समस्या दूर हो जाएगी। इसका सेवन आपको तनाव से दूर रखने में मदद करेगा। रोज अपने आहार में अंगूर या अंगूर के रस का सेवन करना शुरू कर दें। इससे आपको माइग्रेन की समस्या से छुटकारा मिल जाएगा।

ये पढ़ें : डायबिटीज/शुगर को कम करने के घरेलु उपाय

headache treatment without medicine in hindi

  1. केसर (Saffron)

केसर (saffron) दुनिया के सबसे मंहगे मसालों में से एक हैं। केसर का उपयोग करके आप माइग्रेन के दर्द से राहत पा सकते हैं। इसमें एंटीऑक्सीडेंट और एंटीइंफ्लेमेट्री गुण के साथ साथ विटामिन A, फोलिक एसिड, पोटेशियम, कैल्शियम, मैंगनीज, लोहा, सेलेनियम, जिंक, मैग्नीशियम और भी कई अन्य पोषक तत्व पाए जाते हैं। केसर का दूध पीने से कमजोरी, सर्दी-जुकाम अधिक तनाव, थकान, नींद ना आना और सिरदर्द जैसी माइग्रेन की समस्या दूर हो जाती हैं।

रोज एक गिलास गर्म दूध में चुटकी भर केसर और शहद मिलाकर पिएं। यह आपके पाचन तंत्र को ठीक रखने में भी मदद करता हैं। माइग्रेन की समयसा को दूर करने के लिए केसर के साथ चंदन को मिलाकर पीस ले और फिर इस लेप को अपने सिर पर लगाए। इससे सिर दर्द में आराम मिलेगा।

  1. लैवेंडर तेल (lavender oil)

लैवेंडर अपनी खुशुबू और औषधीय गुणों के लिए जाना जाता हैं। लैवेंडर तेल लैवेंडर फूलों से बनता हैं, इसलिए इसमें से बहुत अच्छी खुशबू आती हैं। माइग्रेन के दर्द में लैवेंडर तेल बहुत फायदेमंद हैं। आप लैवेंडर तेल से अपने सिर पर मालिश करें। यह आपके दिमाग को शांत रखता हैं, जिससे आपका तनाव कम होता हैं और अच्छी नींद आती हैं।

तेल सिरदर्द और माइग्रेन के दर्द को कम करने में मदद करता है। गर्म पानी में लैवेंडर तेल की 5-10 बूंदें मिलाकर उस पानी से भाप लें। इससे सिरदर्द में आपको आराम मिलेगा। इसके अलावा आप टिशू पेपर पर लैवेंडर तेल की कुछ बूंदें डालकर उस पेपर को सूंघ ले इससे भी आपको तुरंत आराम मिलेगा।

  1. दालचीनी (Cinnamon)

हम दालचीनी का प्रयोग मसाले के रूप में करते हैं, इसमें एंटीऑक्सिडेंट गुण सबसे अधिक मात्रा में पाया जाता हैं। जो हमारे शरीर में इम्युनिटी को बढ़ाने का काम करते हैं। हमें कई रोगों से लड़ने में मदद करते हैं। आप खाने में दालचीनी का इस्तेमाल जरुर करें।

इसका सेवन करने से सिरदर्द और माइग्रेन के साथ साथ दस्त, सर्दी-जुकाम, खांसी, पेट दर्द, हाइपरटेंशन, भूख की कमी, डायबिटीज, और  कोलेस्ट्रॉल, आदि बहुत सारी बीमारियों में आराम मिलता हैं। एक गिलास दूध में दो चम्मच दालचीनी पाउडर मिलाकर पीने से migraine के दर्द से राहत मिलती हैं। इसके अलावा आप

दालचीनी के पाउडर को पानी में मिलाकर पेस्ट बनाएं और माथे पर लगाएं। फिर आधे घंटे बाद इसे गुनगुने पानी से धो लें, इससे दर्द दूर हो जाएगा।

Home remedy for migraine-माइग्रेन के घरेलु उपाय

  1. बर्फ़ (Ice pack)

माइग्रेन के सिरदर्द को कम करने के लिए सबसे अच्छा उपाय हैं। अपने सिर पर आइस पैक या बर्फ़ से सिकाई करना, क्योंकि माइग्रेन की वजह से मांसपेशियों में सूजन होने लगती हैं। सूजन को कम करने के लिए आइस पैक या बर्फ से सिकाई करना बहुत फायदेमंद होता हैं।

इससे दर्द में आराम मिलता हैं, और नसों में खून के बहाव को नियंत्रित करने में मदद करता हैं। एक साफ रुमाल में आइस के कुछ टुकड़े रखें और फिर उससे सिर और गर्दन के पीछे 10 से 15 मिनट तक सिकाई करें। इसके अलावा आप पिपरमिंट ऑयल की कुछ बूंदे आइस पैक पर डालकर भी सिकाई कर सकते हैं इससे दर्द में जल्दी आराम मिलेगा।

ये पढ़ें : कब्ज को जड़ से कैसे ख़त्म करें

  1. धनिया के बीज(Coriander Seeds)

आजकल धनिया लगभग हर घर में इस्तेमाल किया जाता है. ये खाने में स्वाद को बढ़ाने के साथ-साथ खाने को पचाने में भी मदद करता है. यह स्वादिष्ट खाना बनाने वाले मसालों में सबसे बेहतरीन माना जाता है, इसके अलावा धनिये का उपयोग प्राचीन काल से ही सिरदर्द और माइग्रेन की दवा के रूप में किया जाता है. धनिये के बीजों से तैयार चाय माइग्रेन में काफी लाभकारी होती है.

तो ये थे माइग्रेन से बचने के कुछ घरेलु उपाय जिनके उपयोग से आप सिर दर्द जैसी समस्या से बच सकते हैं. वैसे तो माइग्रेन घरेलु उपचार से कुछ दिनों में ठीक हो जाता है. इसलिए अगर आपकी समस्या ठीक नहीं हो रही तो एक बार डॉक्टर से सलाह जरूर कर लें.

सम्बंधित पोस्ट

आँखों के निचे dark circles को हटाने के उपाय

हाई cholesterol कैसे ठीक करें

ब्लड platelets को कैसे बढायें

Spread the love

Leave a Comment

error: