NEFT, RTGS, IMPS, UPI क्या है और इनके बीच क्या अंतर है?

क्या आपने कभी विचार किया है कि RTGS Kya Hai?, NEFT Kya Hai?, IMPS Kya Hai?, और UPI Kya Hai?. अगर नही किया तो आप सही जगह पर आये हैं. इस पोस्ट में हमने  NEFT RTGS IMPS और UPI के बारे में पूरे विस्तार से बताया है.

एक टाइम था जब हमें पैसे transfer करने के लिए, बैंकों में जाकर लम्बी-२ लाइन में खड़े रहना पड़ता था. क्यूंकि उस समय पैसे ट्रान्सफर करने के लिए ज्यादा options उपलब्ध नहीं थे. परन्तु आज हमारे पास money transfer करने के बहुत सारे options मौजूद है. जिनके द्वारा हम घर बैठे अपने मोबाइल फ़ोन या लैपटॉप के मदद से लाखों रुपये मिनटों में ट्रांसफर कर सकते हैं.

सभी banks ग्राहकों की जरूरतों और सुविधाओं को ध्यान में रख कर कई तरह के money transfer options देते है. इस समय भारत में NEFT, RTGS, IMPS और UPI के जरिए पैसे ट्रांसफर किए जाते है. लेकिन NEFT और RTGS की सुविधा सालों से उपलब्ध है, एवं IMPS को 2010 और UPI को 2016 में लॉन्च किया गया था.

अगर बात करें इंडिया की तो यहाँ ऑनलाइन payment का इस्तेमाल 8 नवंबर 2016 को हुए नोटबंदी (demonetisation) के बाद काफी बढ़ गया है. अगर आप भी Online Payment या Money Transfer करते है, परन्तु RTGS, NEFT, IMPS और UPI के बिच का अंतर नहीं जानते तो ये पोस्ट आप जरूर पढ़ें. इसको पढने से आपके मन में money transfer methods को लेकर चल रहे कई तरह के प्रश्नों का जवाब मिल जायेगा.

NEFT (National Electronic Funds Transfer)

“नैशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर” यानी NEFT एक सुविधाजनक ऑनलाइन मनी ट्रांसफर टूल है.  जिसका इस्तेमाल कर आप किसी भी अकाउंट होल्डर को पैसे transfer कर सकते हैं. इसके द्वारा किये गए transactions को settlement होने में कुछ समय लगता है.

प्राप्तकर्ता के अकाउंट में होने वाला यह फंड ट्रांसफर उस समय के आधार पर RBI के guidelines और settlement स्लॉट के अनुसार होता है. ट्रांसफर करने की अमाउंट लिमिट, अलग-अलग बैंकों के लिए अलग-अलग हो सकता है.

इसमें आम तौर पर transactions का सेटलमेंट, weekdays के दौरान सुबह 8 बजे से शाम 7 बजे के बीच होता है और शनिवार के दिन सुबह 8 बजे से दोपहर 1 बजे के बीच होता है. NEFT में कोई transaction llimit नहीं होता है. इसमें आप बिना Limit तक कितना भी amount ट्रांसफर कर सकते है. किसी को भी NEFT आप बैंक जाकर या Internet Banking के जरिए कर सकते है.

RTGS (Real-Time Gross Settlement)

रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (RTGS) एक बड़े अमाउंट वाले लेन देन के लिए होता है और इसके द्वारा आप 2 लाख रुपये से बड़ी रकम ट्रांसफर कर सकते हैं. जैसा कि इसके नाम से ही पता चलता है, इस माध्यम से होने वाला मनी ट्रांसफर, रियल टाइम बेसिस पर होता है. ये पैसे transfer करने का सबसे तेज़ माध्यम है. “आर टी जी एस” ट्रांसफर के लिए कोई अपर लिमिट नहीं है.

RTGS का ऑपरेटिंग टाइम, सोमवार से शुक्रवार तक सुबह 9 बजे से दोपहर 4.30 बजे के बीच और शनिवार के दिन सुबह 9 बजे से दोपहर 2 बजे के बीच का होता है. “आर.टी.जी.एस.” के माध्यम से होने वाले लेनदेन का कॉस्ट, आमतौर पर NEFT से अधिक होता है. RTGS सिर्फ तभी किया जा सकता है जब पैसे भेजने वाले और पाने वाले का अकाउंट “आर टी जी एस” ट्रांसफर लेने के लिए क्वॉलिफाइड ब्रांच में हो.

IMPS (Immediate Payment Service)

इमीडियेट पेमेंट ट्रांसफर सर्विस (IMPS) पैसे ट्रांसफर करने का बहुत ही सिक्योर तरीका है जो NPCI के द्वारा संचालित होता है. IMPS के माध्यम से आप घर बैठे अपने मोबाइल से किसी को भी कभी भी पैसे भेज सकते है. इसके लिए सिर्फ आपको उस व्यक्ति का मोबाइल नंबर और MMID जोकि 7 अंक का होता है पता होना चाहिए, आप चाहे तो अकाउंट नंबर और IFSC कोड के माध्यम से भी पैसे भेज सकते है. इसका अपर ट्रांसफर लिमिट 2 लाख रुपये है. IMPS के लिए फंड ट्रांसफर अमाउंट के आधार पर 5 से 15 रुपये तक फंड ट्रांसफर चार्ज लिया जाता है.

UPI (Unified Payments Interface)

यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस (UPI), मोबाइल ऐप्लिकेशन के माध्यम से काम करता है, यह फैसिलिटी सातों दिन और चौबीसों घंटे मिलती है. UPI लेनदेन का अपर लिमिट, 1 लाख रुपये है और 24 घंटे में अधिकतम 10 बार लेनदेन की इजाजत है. चूंकि यह एक सिंगल स्मार्टफोन ऐप के माध्यम से काम करता है, इसलिए यह यूजर्स को एक से अधिक बैंक अकाउंट को लिंक करने की इजाजत देता है. आप IFSC कोड या अकाउंट नंबर दर्ज किए बिना पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं. यह एक रियल टाइम पेमेंट सिस्टम है जहां फंड्स, रियल टाइम बेसिस पर तुरंत क्रेडिट हो जाते हैं.

आपके लिए कौन सा transfer आप्शन सही रहेगा.

  • यदि आप इंटरनैशनल मनी ट्रांसफर करना चाहते हैं तो NEFT और RTGS सूटेबल ऑप्शंस हो सकते हैं.
  • 1 लाख रुपये से कम के डोमेस्टिक ट्रांसफर के लिए UPI आधारित ट्रांसफर सबसे अधिक सस्ता और सुविधाजनक होगा.
  • अगर आप 1 लाख से 2 लाख रुपये के बीच फंड ट्रांसफर करना चाहते हैं तो IMPS एक अच्छी चॉइस हो सकती है.
  • यदि आप तुरंत पैसे ट्रांसफर करना चाहते हैं तो IMPS और UPI काफी उपयोगी साबित हो सकता है, लेकिन UPI, “आई ऍम पी एस”  की तुलना में काफी सस्ता होता है और इसे आप अपने स्मार्टफोन से बड़ी आसानी से कर सकते हैं
  • यदि आप किसी मर्चेंट को पेमेंट कर रहे हैं तो “आई ऍम पी एस” या UPI आपके लिए सबसे अच्छा विकल्प होगा.
  • फंड ट्रांसफर के साइज के आधार पर आप मर्चेंट को पैसे ट्रांसफर करने के लिए सही चॉइस कर सकते हैं.
  • छोटे-मोटे लेनदेन के लिए, UPI एक बेहतर choice है और “आई ऍम पी एस” की तुलना में अधिक सुविधाजनक है.

तो दोस्तों उम्मीद करता हूँ आपको समझ में आ गया होगा की RTGS Kya Hai?, NEFT Kya Hai?, IMPS Kya Hai?, और UPI Kya Hai?. और कब  किस आप्शन का प्रयोग करना चाहिए.

अगर इस पोस्ट से सम्बंधित कोई सवाल या सुझाव है तो कृपया कमेंट कर के जरूर बताएं.

सम्बंधित पोस्ट जरूर पढ़ें 

ब्लॉग पोस्ट को रैंक कराने के लिए जरूरी टिप्स

ब्लॉग्गिंग के लिए कुछ जरूरी टिप्स

गूगल एडसेंस अप्रूवल टिप्स and ट्रिक्स

विद्यार्थियों के लिए कुछ जरूरी एप्स

खाली पेट पानी पीना क्यूँ जरूरी है

इम्युनिटी कैसे बढ़ाएं

Spread the love

Leave a Comment

error: